Sunday, September 14, 2008

उनकी याद में, जिन्हें दहशतगर्दों ने दिल्ली में धमाके कर हमसे छीन लिए


2 comments:

Udan Tashtari said...

अश्रुपूरित श्रृद्धांजलि.


अफसोसजन..दुखद...निन्दनीय घटना!!

Suresh Chandra Gupta said...

अल्लाह के नाम पर अल्लाह के बन्दों को मारना अल्लाह के प्रति अपराध है. मन दुःख रहा है. आक्रोश भी है मन में. किससे कहें, क्या कहें? जो चले गए ईश्वर उन की आत्मा को शान्ति दे, उन के परिवारों को शक्ति.